हास्यास्पद स्थिति

मरीज देखते समय एक डॉक्टर का तनाव उसी मरीज से उत्पन्न हास्यास्पद स्थिति से ज्यादातर दूर हो जाता है, लेकिन कभी कभी इसका उल्टा भी।

1 ज्यादातर मरीज आते ही पहली शर्त दाग देते हैं कि डॉक्टर साहब गर्म दवा न लिखियो, गर्म व स्ट्रांग दवा नुस्कान करति आ

शहर के मरीज भी ऐसा ही कहते है,

जबकि दवा में, न तो कुछ गर्म होता है, ना ठंडा, न ही स्ट्रांग लेकिन आज तक ये बात समझा नही पाए।😀

2 नमक खाने पर मना करने पर तेजी से बोलता है- नमक तो हम कभी खयते ही नही?

डॉ-तो क्या दालमोठ, पापड़, बिस्कुट, सब्जी, दाल, कुछ नही खाते?

उ तो खयते है,वो बात अलग है लेकिन नमक कबहु खयते ही नही😀

3 डॉ-मिर्च मना है,

लेकिन डॉ साहब, मिर्चा तो खयते नही

डॉ-क्यो सब्जी में लाल मिर्च नही डालते?

तो सब्जी पूछओ न,

तुम पूछ्यो मिरच, तो ऊ तो नही चबात 😀

4- डॉ मिर्च मना है,4-6 महीने समझे?

छह महीने बाद- डॉक्टर साहब, अब सब्जी खाये सकत?

अरे सब्जी कब मना किया था?

लियो,तुमहीन बोल्यो की मिरिच न खाई, तो सब्जी कैसे बनी?

अरे तो सब्जी मा मिरिच न डाला करो

तो सब्जी बनी कैसे? अजीब बाति या😀

5- डॉ साहब’ बबासीर है, खून आता है?

लेटो, दिखाओ-

26 साल में आज तक हर मरीज मेरी तरफ ‘मुह करके’ लेटा, काउच पर

बहुत ही ताज़्ज़ुब की बात है एक भी मरीज आज तक दूसरी तरफ मुह करके नही लेटा 😀

आज तक इसकी वजह समझ मे नही आई ☺️

हंसिये

——डॉ आर के वर्मा (देव)–

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: