होम आइसोलेशन ा है?

को वड रोगी के लए

होम आइसोलेशन

                

बात काम क

                                                                               

कोरोना महामार का पूर द ु नया म कोप है। इसका सं मण एक से दसू रे म तेज़ी से फै लता है।लेिकन यह बीमार इतनी ादा घातक नह है िक हर मर ज᳝ को अ ताल म भत होना पड़े।

के वल 20 तशत मर ज़ को ही अ ताल म भत होने क आव कता पड़ती है।80 तशत लोग घर पर और से अलग रहकर और दशा- नद श का पालन कर हो सकते ह । मर ज का घर पर बाक सद से अलग रहकर इलाज होम आइसोलेशन कहलाता है।

                  

                                               

           

होम आइसोलेशन

िकन प र तय म िकया जा सकता है?

घर म को वड-19 सं मत के लए अलग हवादार कमरा और अलग शौचालय हो।

घर म को वड-19 सं मत क 24 घ े देखभाल करने के लए देखभालकत हो।

को वड-19 सं मत म कोई गंभीर ल ण न ह ।

अगर आप होम आइसोलेशन के यो नह पाये जाते ह आपको अ ताल म भत होने क सलाह दी जाती है।

      

होम आइसोलेशन म

रोगी ा कर

घर के अ सद से दरू रख और अलग हवादार कमरे म रह , जह तक संभव हो खड़िकय खुली रख ।

अपने घरवाल से अलग शौचालय व बाथ म काम म ल ।

हमेशा िट पल लेयर मेिडकल मा पहन कर रह और मा को 6 से 8 घ े के बाद बदल ।इसे पेपर बैग म लपेटकर 72 घ े (3 दन) के बाद ही सामा कचरा पा म डाल ।

साबुन व पानी से हाथ को 40 सैक तक अ तरह धोय या 70 तशत ए ोहल यु सैनेटाइज़र का उपयोग कर ।

हमेशा मा , माल या कोहनी म ही ख स या छ क ।

                             

रोगी ा कर

      

ादा छू ई जाने वाली सतह को छू ने व उपकरण का इ ेमाल करने से बच ।मोबाइल व दै नक उपयोग क अ चीज़ को 1 तशत सोिडयम हाइपो ोराइट घोल से सैनेटाइज़ कर ।

अपने बत न, तौ लया, चादर आ द को अलग रख और दसू र को काम न लेने द ।

य द आपके शौचालय म ढ नदार पॉट है तो हमेशा श करने से पहले ढ न को ब कर ।

दन म दो बार बुखार (Body Temperature) व ऑ जन के र (Oxygen Saturation) क ज च कर ।

पय मा ा म पानी, ताज़ा जूस, सूप जैसे तरल पदाथ िपय ।

          

अ रोग (शुगर, ड ेशर आ द) का इलाज जार रख

खाने म ताज़ा फल-स ी व ोटीन यु आहार ादा ल , काब हाइड ेट कम ल ।

आइसोलेशन के दौरान शराब, धू पान व अ िकसी नशीली चीज़ का सेवन ब ु ल न कर ।

पालतू जानवर से दरू रह ।
डॉ र ारा दी गई सलाह का पालन कर व नय मत दवाइय ल ।

अपने मोबाइल फोन पर आरो सेतु ऐप डाउनलोड कर और ऐप पर 24 घ े नोिटिफके शन और लोके शन ट ैिकं ग, जीपीएस ट ैिकं ग को ऑन रख ।

घर पर अ त थय को न बुलाएं और िकसी से न मल । ू ल, बाज़ार, साव ज नक ान या सामा जक व धा मक काय म म न जाएं ।

रोगी ा कर

               

रोगी ा कर

को वड रोगी के लए ज़ र है िक तन के साथ ही मन से भी रहे। इस लए फोन व वीिडयो कॉल पर प रवार के सद एवं र ेदार के स क म रह ।अपनी पसंदीदा िकताब पढ़ , टेली वजन शो एवं िफ देख या अपने मोबाइल पर गेम खेल ।

                                                                                

ा क ज च कै से कर

दन म दो बार (सुबह और रात) अपने ा क ज च कर ।इसके अलावा जब भी बुखार महसूस हो तो भी ये सब ज च ज़ र कर

थम मीटर से अपना तापमान ल । (तापमान 100 फे रेनहाइट से ादा न हो)

अपनी प /न ᳝ को एक मनट के लए ज च । प क ज च के लए अपनी तज नी और म म (अंगूठे के बाद वाली और बीच क उंगली) उंग लय को कलाई (अंगूठे के आधार) पर रख । ान से गन िक आप एक मनट (60 सेक ड) म िकतने बीट्स/धड़कन महसूस कर रहे ह ।

(प 100 बीट्स त मनट से अ धक न हो)

रोगी ा कर

      

अपनी सन दर (स स लेने क दर/ ेथ रेट) पर ान द ( सन दर 15 त मनट से अ धक न हो)

ऑ ीमीटर से ऑ ीजन का र देख (SpO2 रेट 94 तशत से कम न हो)

ज च के बाद ये सभी और अ कोई ल ण एक कागज़ या नोटबुक पर दन क और समय के साथ नोट कर ।

बुखार के अलावा को वड-19 के नीचे दये गये ल ण पर भी गौर कर ।ये दखाई द तो डॉ र क सलाह ल ।

!

!

रोगी ा कर

     

स स लेने मे क ठनाई

!  छाती म लगातार दद या दबाव

!  मान सक म

    

होठ या चेहरे का नीला पड़ जाना

  

चिक क क सलाह के अनुसार न दवाइय ल

दवाई का नाम

पैरा सटामोल (बुखार होने पर)

जकं स े ट वटा मन-सी

दवा क मा ा

500 मली ाम

50 मली ाम 500 मली ाम

दवाईय क खुराक का ववरण

बुखार होने पर, (य द आव कता हो तो)

त दन, दन म एक बार

त दन, दन म 2 बार (यह मा ा रो गय के लए है)

  

कोरोना महामार म हो ोपेथी दवाईय भी कारगर ह और इन से मर ज᳝ ठ क हो रहे ह ।कोरोना बीमार म शर र का सन तं सबसे ादा भा वत होता है। त सन तं कोरोना वायरस को शर र म पनपने का उपयु वातावरण उपल कराता है।इन त को ान म रखकर हो ोपेथी के यो चिक क ने गहन व ेषण के बाद ोरम, ओजोनम, काली ो मयम, काली ोरम जैसी दवाईय इस बीमार के लए चुनी ह ।

 

हो ोपेथी दवाएं यो चिक क क सलाह से ही लेनी चा हएं ।

कोरोना म हो ोपेथी दवाएं लेने वाले मर ज को न परहेज रखने चा हएं
Ÿ इलाज के दौरान दधू न िपएं ।
Ÿ ठ े पदाथ /एयर क ीशनर के उपयोग से परहेज रख ।

चिक क क सलाह

          

रोगी

ा खाएं

घर म बना खाना खाय

गेहूं का आटा, द लया, बाजरा, ाउन राइस खाएं

ोटीनयु चीज _ बी , दाल

ताज़े फल और स य , खास तौर पर ख े फल जैसे मौसमी, नारंगी, संतरा ज़ र ल

दन म रोज़ 8-10 गलास पानी िपएं

खाने म अदरक, लहसुन, ह ी जैसे मसाल का उपयोग कर

‘लो फै ट’ दधू व दही

म साहार लोग नॉनवेज को अलग से ोर कर और नलैस चकन, मछली और एग ाट् स का सेवन कर

ान रहे िक फल व स य को अ े से धोकर काम म ल और खाना कम कॉले ोल वाले तेल म पकाय

                   

रोगी

ा नह खाएं

मैदा, तला हुआ खाना या जंक फू ड (जैसे च , बेकर के उ ाद) पैके ट वाले जूस और को िड कं

चीज़, ना रयल, म न, और पा ऑयल जैसे अनसैचुरेटेड फै ट् स

मटन, लवर, ाइड और ोसे ड मीट
अ े का पीला भाग स ाह म एक बार ही खाएं स ाह म नॉनवेज दो-तीन बार से ादा न खाएं

             

प रवार के सद और देखभालकत ा कर

अगर घर म कोई कोरोना मर ज᳝ है तो 24 से 50 वष का कोई भी उसक देखभाल कर सकता है।देखभालकत शार रक प से होना चा हए।उसे िकसी गंभीर बीमार जैसे क सर, अ मा, स स क बीमार , डाय बटीज़, उ एवं न र चाप (लो ड ेशर), हदय रोग, िकडनी क बीमार आ द न हो।

मर ज᳝ क देखभाल करते समय हमेशा मा (िट पल लेयर मेिडकल मा ) व िड ोजेबल स और एक ा क ए न का उपयोग कर ।ए न को हमेशा साफ रख और सोिडयम हाइपो ोराइट से साफ कर ।

मा को 6 से 8 घ े के बाद बदलकर पेपर बैग म लपेटकर 72 घ े के बाद ही सामा कचरे म डाल ।

साबुन व पानी से हाथ 40 सैक तक अ तरह धोय या िफर 70 तशत ए ोहल वाले सैनेटाइज़र का उपयोग कर ।

      

देखभालकत ा कर

बना हाथ धोये अपने नाक, मुंह व चेहरे को नह छु एं ।

शौचालय जाने से पहले और बाद म , खाना बनाने से पहले व बाद म अपने हाथ को अ तरह से धोय ।

हाथ धोने के बाद-पेपर टावल या िटशू से हाथ को प छ । य द पेपर-टावल उपल नह हो तो अपना एक साफ तौ लया अलग रख और जब तौ लया गीला हो जाये तो उसे बदल द ।

य द मर ज को उ ी हो जाती है या कोई भी तरल पदाथ फै लता है तो ब र से तुर साफ कर । ब र या चादर को गम पानी म धोकर, धूप म सुखाएं या अ तर के से सैनेटाइज़ कर ।

                    

             

                

देखभालकत ा कर

                                                                    

रोगी के थूक, लार एवं छ क के सीधे स क म आने से बच । को वड सं मत रोगी ारा उपयोग क गई चीज़ के सीधे स क म आने से भी बच ।

मर ज᳝ को उनके कमरे के बाहर ही भोजन पंहुचाय ।खाना एक ूल या टे बल पर रख द ।ये सु न त कर िक भोजन देते समय मर ज᳝ के सीधे स क म नह आय और उनक च च, ेट एवं अ बत न को स ालते समय िड ोजे़बल स का उपयोग कर ।

मर ज᳝ के ारा उपयोग िकये जाने वाले बत न को साबुन या िडटरजे से साफ कर एवं साफ करते समय िड ोज़ेबल स

      

देखभालकत ा कर

का उपयोग कर ।साफ िकये गये बत न को वापस काम म लया जा सकता है।

मर ज᳝ के कमरे, बाथ म और शौचालय क सतह को त दन कम से कम एक बार ज़ र सैनेटाइज़ कर ।

डॉ र ारा दी गई सलाह एवं उपचार क पालना कर ।

आप यं भी रोज़ाना शर र का तापमान ज च व ा क नगरानी कर ।अगर बुखार, जुकाम, ख सी या स स लेने म तकलीफ हो तो तुर डॉ र क सलाह ल ।

अपने मोबाइल फोन पर आरो सेतु ऐप डाउनलोड कर और ऐप पर 24 घ े नोिटिफके शन और लोके शन ट ैिकं ग, जीपीएस ट ैिकं ग को ऑन रख ।

                                                                                                       

 

य द आपके प रवार म 60 साल से अ धक उ का कोई बुजुग है या घर म कोई गभ वती म हला है या छोटे ब े ह या िफर िकसी गंभीर बीमार जैसे क सर, अ मा, स स क बीमार , डाय बटीज᳝, उ एवं न र चाप (लो या हाइ ड ेशर), दय रोग, िकडनी क बीमार आ द से सत कोई सद हो तो उ को वड-19 रोगी से दरू रख ।

देखभालकत ा कर

                

होम आइसोलेशन क अव ध

होम आइसोलेशन के शु होने के 14 दन के बाद, अगर मर ज᳝ को आ खर 10 दन म बुखार या अ कोई ल ण नह है, तो डॉ र से पूछकर होम आइसोलेशन को समा कर सकते ह । होम आइसोलेशन समा होने के बाद आपको लैब ज च करवाने क ज़ रत नह है।

                                                           

होम आइसोलेशन रोगी के

पड़ोसी ये कर

अगर आपक ब गं या पड़ोस म कोई को वड मर ज᳝ होम आइसोलेशन म है तो घबराय नह । आपको सफ कु छ सावधा नय बरतनी ह जससे आप अपने और अपने प रवार को को वड से सुर त रख सकते ह ।

ब गं के कॉमन ए रया जैसे ल ट, सीिढ़य , रोज़ाना दो बार 1 तशत सोिडयम हाइपो ोराइट के घोल से सैनेटाइज़ कर ।

अ र छू ने वाली सतह _ जैसे सीिढ़य क रे लगं या ल ट के बटन आ द _ को छू ने से बच ।

जब तक मर ज᳝ ठ क नह हो तब तक उनक मदद कर ।उनक ज़ रत का सामान जैसे दवाईय , राशन व स ी पहुंचाएं । सामान

    

उनके घर के दरवाजे पर ही रख द ।पैसे का लेनदेन िड जटल तर के से या मर ज᳝ के ठ क होने के बाद ही कर ।

समय-समय पर उनसे फोन पर बात करते रह और उनका मनोबल बढा᳝य ।मर ज᳝ के प रवार क हर संभव मदद कर ।

जो को वड-19 से हो गए ह उनसे जुड़ी सकारा क बात साझा कर ।

जनका उपचार चल रहा है, उ सं द या अछू त के प म ना देख ब उ को वड-19 को हराने वाले के प म देख ।

मर ज᳝ या उसके प रवार को िकसी भी तरह क परेशानी न पहुचाय ।याद रहे लड़ाई बीमार से है बीमार से नह ।

पड़ोसी ये कर

       

व ुओं व सतह को सेनेटाइज़ करने का तर का

कै से

िकतने समय

कब

वह सतह जह सबके हाथ लगते ह

1% सोिडयम हाइपो ोराइट घोल से

10 मनट

हर 2 घंटे म

फश

पहले िडटज ट व पानी से सफाई, उसके बाद 1% सोिडयम हाइपो ोराइट घोल से पोछा

10 मनट

हर 8 घंटे म

दीवार व छत

1% सोिडयम हाइपो ोराइट घोल से

10 मनट

दन म 1 बार

कॉ रडोर

1% सोिडयम हाइपो ोराइट घोल से

10 मनट

हर 8 घंटे म

लनन

1% सोिडयम हाइपो ोराइट घोल से

30 मनट

आव कता अनुसार

व ुओं व सतह को सेनेटाइज़ करने का तर का

कै से

िकतने समय

कब

टॉयलेट

पहले िडटज ट व पानी से सफाई, उसके बाद 1% सोिडयम हाइपो ोराइट घोल से पोछा

10 मनट

हर 4 घंटे म

नॉन ि िटकल उपकरण जैसे प ओ ीमीटर, बीपी उपकरण, थम ल े नर, ूकोमीटर,

थे ो ोप, ूबलाइज़र

सैनेटाइज़र/ पोछने से

10 मनट

हर बार उपयोग म लेने के बाद

 

1% सोिडयम हाइपो ोराइट घोल बनाने का तर का

ॉड

उपल ोर न

1% सोिडयम हाइपो ोराइट घोल बनाने के लए

सोिडयम हाइपो ोराइट – ल ड ीच

3.5%

1 भाग ीच को 2.5 भाग पानी म मलाकर बनाना है

सोिडयम हाइपो ोराइट – ल ड ीच

5%

1 भाग ीच को 4 भाग पानी म मलाकर बनाना है

                                                          

हाथ धोने का उ चत तर का

सीधा : दोन हाथ क हथे लय को सीधा एक साथ रगड़

उ ा : अपनी अंगु लय को दरू करते हुये अंगु लय के बीच दोन हाथ को उ ा पीछे रगड़

मु : अपनी अंगु लय के पीछे अ तरह साफ कर

अंगूठा : अपने अंगूठे को रगड़

नाखून : अपने नाखून को अ तरह साफ कर ।

कलाई : अपनी कलाई को रगड़ ।

               

ा ज च

दन/ समय

प रेट

तापमान

र म ऑ ीज़न का र

स स क ग त

िट णी

सुबह

शाम

सुबह

शाम

सुबह

शाम

सुबह

शाम

1

2

3

4

5

6

7

8

9

10

11

12

13

14

 

आइये मलकर कोरोना को हराएं

बना मा बाहर न जाएँ और से दो गज़ क दरू रख

बार-बार हाथ धोएँ साव ज नक ान पर न थूक

भीड़ वाली जगह जाने से बच

          

   

रोगी व उनके प रजन िकसी भी सहायता के लए रा र य सहायता के

181 पर फ़ोन कर

              

मक र क ू नके शन िडज़ाइन, जयपुर ारा जन हत म का शत

( ा वभाग, राज ान सरकार क गाइडलाइंस पर आधा रत)

181

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: